SIDEBAR
»
S
I
D
E
B
A
R
«
Learn to Chant – Om Namo Narayana
Jan 2nd, 2010 by Shree

Learn to Chant – Ya Devi Sarva Bhuteshu
Jan 2nd, 2010 by Shree

The following Devi Stuti is from the 5th chapter of Durga Saptashati. The shlokas glorify the all-pervading nature of the Divine Mother, who is present in every being, every action and every emotion.

The text of the stuti is given below in devanagari, tamil scripts and diacritic transliteration.

नमो देव्यै महादेव्यै शिवायै सततं नमः |
नमः प्रकृत्यै भद्रायै नियताः प्रणताः स्म ताम् || ९||
रौद्रायै नमो नित्यायै गौर्यै धात्र्यै नमो नमः |
ज्योत्स्नायै चेन्दुरूपिण्यै सुखायै सततं नमः || १०||
कल्याण्यै प्रणता वृद्ध्यै सिद्ध्यै कुर्मो नमो नमः |
नैरृत्यै भूभृतां लक्ष्म्यै शर्वाण्यै ते नमो नमः || ११||
दुर्गायै दुर्गपारायै सारायै सर्वकारिण्यै |
ख्यात्यै तथैव कृष्णायै धूम्रायै सततं नमः || १२||
अतिसौम्यातिरौद्रायै नतास्तस्यै नमो नमः |
नमो जगत्प्रतिष्ठायै देव्यै कृत्यै नमो नमः || १३||
या देवी सर्वभूतेषु विष्णुमायेति शब्दिता |
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः || १४-१६||
या देवी सर्वभूतेषु चेतनेत्यभिधीयते |
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः || १७-१९||
या देवी सर्वभूतेषु बुद्धिरूपेण संस्थिता |
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः || २०-२२||
या देवी सर्वभूतेषु निद्रारूपेण संस्थिता |
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः || २३-२५||
या देवी सर्वभूतेषु क्षुधारूपेण संस्थिता |
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः || २६-२८||
या देवी सर्वभूतेषु छायारूपेण संस्थिता |
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः || २९-३१||
या देवी सर्वभूतेषु शक्तिरूपेण संस्थिता |
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः || ३२-३४||
या देवी सर्वभूतेषु तृष्णारूपेण संस्थिता |
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः || ३५-३७||
या देवी सर्वभूतेषु क्षान्तिरूपेण संस्थिता |
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः || ३८-४०||
या देवी सर्वभूतेषु जातिरूपेण संस्थिता |
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः || ४१-४३||
या देवी सर्वभूतेषु लज्जारूपेण संस्थिता |
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः || ४४-४६||
या देवी सर्वभूतेषु शान्तिरूपेण संस्थिता |
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः || ४७-४९||
या देवी सर्वभूतेषु श्रद्धारूपेण संस्थिता |
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः || ५०-५२||
या देवी सर्वभूतेषु कान्तिरूपेण संस्थिता |
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः || ५३-५५||
या देवी सर्वभूतेषु लक्ष्मीरूपेण संस्थिता |
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः || ५६-५८||
या देवी सर्वभूतेषु वृत्तिरूपेण संस्थिता |
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः || ५९-६१||
या देवी सर्वभूतेषु स्मृतिरूपेण संस्थिता |
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः || ६२-६४||
या देवी सर्वभूतेषु दयारूपेण संस्थिता |
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः || ६५-६७||
या देवी सर्वभूतेषु तुष्टिरूपेण संस्थिता |
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः || ६८-७०||
या देवी सर्वभूतेषु मातृरूपेण संस्थिता |
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः || ७१-७३||
या देवी सर्वभूतेषु भ्रान्तिरूपेण संस्थिता |
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः || ७४-७६||
इन्द्रियाणामधिष्ठात्री भूतानां चाखिलेषु या |
भूतेषु सततं तस्यै व्याप्त्यै देव्यै नमो नमः || ७७||
चितिरूपेण या कृत्स्नमेतद् व्याप्य स्थिता जगत् |
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः || ७८-८०||

___________________________________________

நமோ தே³வ்யை மஹாதே³வ்யை ஶிவாயை ஸததம் நம: |
நம: ப்ரக்ருத்யை ப⁴த்³ராயை நியதா: ப்ரணதா: ஸ்ம தாம் || 9||
ரௌத்³ராயை நமோ நித்யாயை கௌ³ர்யை தா⁴த்ர்யை நமோ நம: |
ஜ்யோத்ஸ்நாயை செந்து³ரூபிண்யை ஸுகா²யை ஸததம் நம: || 10||
கல்யாண்யை ப்ரணதா வ்ருத்³த்⁴யை ஸித்³த்⁴யை குர்மோ நமோ நம: |
நைர்ருத்யை பூ⁴ப்⁴ருதாம் லக்ஷ்ம்யை ஶர்வாண்யை தே நமோ நம: || 11||
து³ர்கா³யை து³ர்க³பாராயை ஸாராயை ஸர்வகாரிண்யை |
க்2யாத்யை ததை²வ க்ருஷ்ணாயை தூ⁴ம்ராயை ஸததம் நம: || 12||
அதிஸௌம்யாதிரௌத்³ராயை நதாஸ்தஸ்யை நமோ நம: |
நமோ ஜக³த்ப்ரதிஷ்டா²யை தே³வ்யை க்ருத்யை நமோ நம: || 13||
யா தே³வீ ஸர்வபூ⁴தேஷு விஷ்ணுமாயேதி ஶப்³தி³தா |
நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமோ நம: || 14-16||
யா தே³வீ ஸர்வபூ⁴தேஷு சேதனேத்யபி⁴தீ⁴யதே |
நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமோ நம: || 17-19||
யா தே³வீ ஸர்வபூ⁴தேஷு பு³த்³தி⁴ரூபேண ஸந்ஸ்தி²தா |
நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமோ நம: || 20-22||
யா தே³வீ ஸர்வபூ⁴தேஷு நித்³ராரூபேண ஸந்ஸ்தி²தா |
நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமோ நம: || 23-25||
யா தே³வீ ஸர்வபூ⁴தேஷு க்ஷுதா⁴ரூபேண ஸந்ஸ்தி²தா |
நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமோ நம: || 26-28||
யா தே³வீ ஸர்வபூ⁴தேஷு சா²யாரூபேண ஸந்ஸ்தி²தா |
நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமோ நம: || 29-31||
யா தே³வீ ஸர்வபூ⁴தேஷு ஶக்திரூபேண ஸந்ஸ்தி²தா |
நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமோ நம: || 32-34||
யா தே³வீ ஸர்வபூ⁴தேஷு த்ருஷ்ணாரூபேண ஸந்ஸ்தி²தா |
நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமோ நம: || 35-37||
யா தே³வீ ஸர்வபூ⁴தேஷு க்ஷாந்திரூபேண ஸந்ஸ்தி²தா |
நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமோ நம: || 38-40||
யா தே³வீ ஸர்வபூ⁴தேஷு ஜாதிரூபேண ஸந்ஸ்தி²தா |
நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமோ நம: || 41-43||
யா தே³வீ ஸர்வபூ⁴தேஷு லஜ்ஜாரூபேண ஸந்ஸ்தி²தா |
நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமோ நம: || 44-46||
யா தே³வீ ஸர்வபூ⁴தேஷு ஶாந்திரூபேண ஸந்ஸ்தி²தா |
நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமோ நம: || 47-49||
யா தே³வீ ஸர்வபூ⁴தேஷு ஶ்ரத்³தா⁴ரூபேண ஸந்ஸ்தி²தா |
நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமோ நம: || 50-52||
யா தே³வீ ஸர்வபூ⁴தேஷு காந்திரூபேண ஸந்ஸ்தி²தா |
நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமோ நம: || 53-55||
யா தே³வீ ஸர்வபூ⁴தேஷு லக்ஷ்மீரூபேண ஸந்ஸ்தி²தா |
நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமோ நம: || 56-58||
யா தே³வீ ஸர்வபூ⁴தேஷு வ்ருத்திரூபேண ஸந்ஸ்தி²தா |
நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமோ நம: || 59-61||
யா தே³வீ ஸர்வபூ⁴தேஷு ஸ்ம்ருதிரூபேண ஸந்ஸ்தி²தா |
நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமோ நம: || 62-64||
யா தே³வீ ஸர்வபூ⁴தேஷு த³யாரூபேண ஸந்ஸ்தி²தா |
நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமோ நம: || 65-67||
யா தே³வீ ஸர்வபூ⁴தேஷு துஷ்டிரூபேண ஸந்ஸ்தி²தா |
நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமோ நம: || 68-70||
யா தே³வீ ஸர்வபூ⁴தேஷு மாத்ருரூபேண ஸந்ஸ்தி²தா |
நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமோ நம: || 71-73||
யா தே³வீ ஸர்வபூ⁴தேஷு ப்⁴ராந்திரூபேண ஸந்ஸ்தி²தா |
நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமோ நம: || 74-76||
இந்த்³ரியாணாமதி⁴ஷ்டா²த்ரீ பூ⁴தானான் சாகி²லேஷு யா |
பூ⁴தேஷு ஸததம் தஸ்யை வ்யாப்த்யை தே³வ்யை நமோ நம: || 77||
சிதிரூபேண யா க்ருத்ஸ்நமேதத்³ வ்யாப்ய ஸ்தி²தா ஜக³த் |
நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமஸ்தஸ்யை நமோ நம: || 78-80||

______________________________________________________

namo devyai mahādevyai śhivāyai satataṃ namaḥ .
namaḥ prakṛtyai bhadrāyai niyatāḥ praṇatāḥ sma tām .. 9..
raudrāyai namo nityāyai gauryai dhātryai namo namaḥ .
jyotsnāyai chendurūpiṇyai sukhāyai satataṃ namaḥ .. 10..
kalyāṇyai praṇatā vṛddhyai siddhyai kurmo namo namaḥ .
nairṛtyai bhūbhṛtāṃ lakṣhmyai śharvāṇyai te namo namaḥ .. 11..
durgāyai durgapārāyai sārāyai sarvakāriṇyai .
khyātyai tathaiva kṛṣhṇāyai dhūmrāyai satataṃ namaḥ .. 12..
atisaumyātiraudrāyai natāstasyai namo namaḥ .
namo jagatpratiṣhṭhāyai devyai kṛtyai namo namaḥ .. 13..
yā devī sarvabhūteṣhu viṣhṇumāyeti śhabditā .
namastasyai namastasyai namastasyai namo namaḥ .. 14-16..
yā devī sarvabhūteṣhu chetanetyabhidhīyate .
namastasyai namastasyai namastasyai namo namaḥ .. 17-19..
yā devī sarvabhūteṣhu buddhirūpeṇa saṃsthitā .
namastasyai namastasyai namastasyai namo namaḥ .. 20-22..
yā devī sarvabhūteṣhu nidrārūpeṇa saṃsthitā .
namastasyai namastasyai namastasyai namo namaḥ .. 23-25..
yā devī sarvabhūteṣhu kṣhudhārūpeṇa saṃsthitā .
namastasyai namastasyai namastasyai namo namaḥ .. 26-28..
yā devī sarvabhūteṣhu chhāyārūpeṇa saṃsthitā .
namastasyai namastasyai namastasyai namo namaḥ .. 29-31..
yā devī sarvabhūteṣhu śhaktirūpeṇa saṃsthitā .
namastasyai namastasyai namastasyai namo namaḥ .. 32-34..
yā devī sarvabhūteṣhu tṛṣhṇārūpeṇa saṃsthitā .
namastasyai namastasyai namastasyai namo namaḥ .. 35-37..
yā devī sarvabhūteṣhu kṣhāntirūpeṇa saṃsthitā .
namastasyai namastasyai namastasyai namo namaḥ .. 38-40..
yā devī sarvabhūteṣhu jātirūpeṇa saṃsthitā .
namastasyai namastasyai namastasyai namo namaḥ .. 41-43..
yā devī sarvabhūteṣhu lajjārūpeṇa saṃsthitā .
namastasyai namastasyai namastasyai namo namaḥ .. 44-46..
yā devī sarvabhūteṣhu śhāntirūpeṇa saṃsthitā .
namastasyai namastasyai namastasyai namo namaḥ .. 47-49..
yā devī sarvabhūteṣhu śhraddhārūpeṇa saṃsthitā .
namastasyai namastasyai namastasyai namo namaḥ .. 50-52..
yā devī sarvabhūteṣhu kāntirūpeṇa saṃsthitā .
namastasyai namastasyai namastasyai namo namaḥ .. 53-55..
yā devī sarvabhūteṣhu lakṣhmīrūpeṇa saṃsthitā .
namastasyai namastasyai namastasyai namo namaḥ .. 56-58..
yā devī sarvabhūteṣhu vṛttirūpeṇa saṃsthitā .
namastasyai namastasyai namastasyai namo namaḥ .. 59-61..
yā devī sarvabhūteṣhu smṛtirūpeṇa saṃsthitā .
namastasyai namastasyai namastasyai namo namaḥ .. 62-64..
yā devī sarvabhūteṣhu dayārūpeṇa saṃsthitā .
namastasyai namastasyai namastasyai namo namaḥ .. 65-67..
yā devī sarvabhūteṣhu tuṣhṭirūpeṇa saṃsthitā .
namastasyai namastasyai namastasyai namo namaḥ .. 68-70..
yā devī sarvabhūteṣhu mātṛrūpeṇa saṃsthitā .
namastasyai namastasyai namastasyai namo namaḥ .. 71-73..
yā devī sarvabhūteṣhu bhrāntirūpeṇa saṃsthitā .
namastasyai namastasyai namastasyai namo namaḥ .. 74-76..
indriyāṇāmadhiṣhṭhātrī bhūtānāṃ chākhileṣhu yā .
bhūteṣhu satataṃ tasyai vyāptyai devyai namo namaḥ .. 77..
chitirūpeṇa yā kṛtsnametad vyāpya sthitā jagat .
namastasyai namastasyai namastasyai namo namaḥ .. 78-80..

Learn to Chant – Mahalakshmi Ashtakam
Nov 10th, 2009 by Shree

The following octet is called the Mahalakshmi Ashtakam. This is a prayer to Goddess Maha Lakshmi who is also called “Shree” and represents wealth as well as auspiciousness. Sri Mahalakshmi Ashtakam originally appeared in Padmapuranam (Padma Purana). It is considered to have been chanted by Indra, the Lord of the Devas to propitiate Goddess Mahalakshmi.

This sing along version has text in Sanskrit, English and Tamil and meanings in English

[youtube=http://www.youtube.com/watch?v=At9o0bej2vY]

The Sanskrit text and meanings are available here in a downloadable format

Learn to Chant – Ganesha Arati
Nov 5th, 2009 by Shree

जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश, देवा .
माता जाकी पारवती, पिता महादेवा ..

एकदन्त, दयावन्त, चारभुजाधारी,
माथे पर तिलक सोहे, मूसे की सवारी .
पान चढ़े, फूल चढ़े और चढ़े मेवा,
लड्डुअन का भोग लगे, सन्त करें सेवा ..

अंधे को आँख देत, कोढ़िन को काया,
बाँझन को पुत्र देत, निर्धन को माया .
‘सूर’ श्याम शरण आए, सफल कीजे सेवा,
जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा ..

Shri Devi Gayatri
Oct 3rd, 2009 by Shree

Shri Devi Gaytri audio is in the voice of my mother-in-law Mrs. K. V. Lalitha.

Learn to Chant – Lalita Pancharatnam
Sep 29th, 2009 by Shree

Here is the text and audio for Lalita Pancharatnam or Lalita Panchakam as part of the ‘Learn to Chant’ series.

Related Posts with Thumbnails

»  Substance:WordPress   »  Style:Ahren Ahimsa
© (C) http://www.mantraaonline.com/. All rights reserved.